सोमवार, 21 दिसंबर 2009

कविता टुकड़ों में



 नाव में सवार होकर
अक्सर मैं चला जाता हुं
समंदर के बीच
चप्पू से बार-बार ढ़केलता हुं
पानी को किनारे की ओर
लहरों के थक जाने की आशंका है मुझे.



                                                                                                                               





                                                                                                                                          उम्मीदें अक्सर

गुम हो जाती हैं
मछलियों की तरह
हाथों से फिसलकर
और
हर बार
 नजर आते है
      मुंह ओढ़े, बेजार से,
      हारे हुये हम.
एक टिप्पणी भेजें